सचिन माथुर वास्तव में हैं भारतीय युवाओं के लिए एक आदर्श

सचिन माथुर वास्तव में हैं भारतीय युवाओं के लिए एक आदर्श - Education News Digpu

जानिए सचिन माथुर की असाधारण यात्रा के बारे में-

सचिन माथुर के पास, मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के बाद, अपने फैमिली बिजनेस, परिवार को बड़ी राजनीतिक विरासत को जारी रखने का विकल्प था, लेकिन उन्होंने खुद को साबित करने के लिए फैमिली बिज़नेस नहीं किया और कॉर्पोरेट में शामिल हो गए ।

ज़ी नेटवर्क, सीएनबीसी टीवी18, रिलायंस और टाटा जैसे कॉरपोरेट्स के साथ 13 साल तक काम करने के बाद उन्होंने मार्केटिंग फील्ड में अपनी कुशलता का प्रदर्शन किया और अपने करियर के उच्च स्तर पर रहे ।

उन्होंने पश्चिमी राजस्थान के जोधपुर शहर में स्थित 56 वर्षीय शैक्षिक संस्थान, लच्छू मेमोरियल कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी की जिम्मेदारी निभाने के लिए अपने शानदार करियर को छोड़ दिया। इस कॉलेज की स्थापना राजस्थान में कई वर्षों तक महान स्वतंत्रता सेनानी गांधीवादी, कैबिनेट मंत्री और उनके दादा श्री मथुरा दास माथुर ने की थी ।

लच्छू कॉलेज में उनकी सक्रिय भागीदारी के बाद, शिक्षण संस्थानों को चलाने के तरीके के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए मार्केटिंग से अपना ध्यान केंद्रित करना आसान नहीं था। लेकिन, समाज के लिए कुछ करने की उनकी प्रेरणाअसामान्य थी। वह जानते थे कि मारवाड़ी समुदाय दुनिया भर में कारोबार करता है और मारवाड़ क्षेत्र से बहुत बड़ी संख्या में CA निकलते हैं ।

छात्रों को अपने प्रबंधन पाठ्यक्रमों के लिए NCR या दक्षिण भारत की और जाना पड़ता था। इसी बात को ध्यान में रखते हुए माथुर ने छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने में मदद करने के लिए कॉमर्स और मैनेजमेंट कोर्सेज शुरू किए । यह एक विज्ञान कॉलेज है और इसमें कॉमर्स और मैनेजमेंट कोर्सेज शुरू करने के लिए सभी हितधारकों को मनाना आसान कभी नहीं था । यह महत्वपूर्ण निर्णय उस समय सफल साबित हुआ जब इससे क्षेत्रीय छात्रों को लाभ हुआ क्योंकि मारवाड़ी परिवार इस तरह के कोर्सेज के लिए अपनी लड़कियों को घर से दूर भेजने में संकोच करते थे।

इसके बाद उन्होंने कॉलेज की संरचना की और उनके नेतृत्व में, लच्छू कॉलेज थार की रेत में स्थित एक मात्र उच्च शिक्षा संस्थान है जिसे यूजीसी, मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा ‘ कॉलेज विद पोटेंशियल फॉर एक्सीलेंस’ के रूप में मान्यता दी गई है। इस कॉलेज को नैक-यूजीसी द्वारा ‘ए’ ग्रेड की मान्यता प्राप्त है। राजस्थान सरकार ने इसे प्रदेश में मॉडल कॉलेज घोषित किया। इसके अलावा, भारत सरकार के बायोटेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट ने इस कॉलेज को रेगिस्तानी क्षेत्र की वनस्पतियों और जीवों के लिए एक शोध संभावित केंद्र के रूप में पहचान दी है। राजस्थान सर्कार ने इस कॉलेज में बायोइन्फरमेटिक्स सेंटर की स्थापना की और अपनी ‘स्टार कॉलेज योजना’ के तहत कॉलेज का चयन किया।

उनके अनुकरणीय कार्य की आस-पास के प्रोफेशनल्स ने सराहना की और राजस्थान राज्य के लिए ‘ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस’ के उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया। उन्होंने इस मंच का उपयोग रक्तदान शिविर, स्वास्थ्य शिविर, मलिन बस्तियों में जन स्वास्थ्य जागरूकता का आयोजन कर समाज की सेवा करने के लिए किया और राजस्थान में जल संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए जल संरक्षणवादी ‘वाटरमैन ऑफ इंडिया’ राजेंद्र प्रसाद जैसे विशेषज्ञों को बुलाया।

सचिन माथुर ने निश्चित रूप से भारत में युवा पीढ़ियों के लिए एक आदर्श के रूप में मार्ग प्रशस्त किया जहां परिवार द्वारा संचालित परोपकारी संस्थानों में अन्य देशों के मुक़ाबले समकालीन बदलावों की कमी है।

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept

Privacy & Cookies Policy